Truth Manthan

हार की जीत -A motivational story

Spread the love

रमेश अपने घर में सबसे छोटा था लेकिन शैतान इतना था कि घर के सभी लोग उससे परेशान रहते थे। उसके मां-बाप भी बहुत ही ज्यादा परेशान रहते थे। ऐसा कोई दिन नहीं होता जिस दिन उसकी कोई शिकायत ना आती। रमेश की उम्र अभी सिर्फ 15 साल थी। लेकिन लड़कपन और शैतानी 5 साल के बच्चों जैसी थी। 1 दिन उसके पापा महेश ने उसको समझाया, बेटा जिंदगी में कुछ करने के लिए थोड़ा शांत रहना भी जरूरी होता है। लेकिन रमेश के समझ में कुछ नहीं आ रहा था। वह अपनी उन्हें आदतों में मशगूल था।

उसके मम्मी पापा ने उसे कई बार समझाया कि अपनी शैतानियां को कम कर दो। लेकिन रमेश पर कोई भी फर्क नहीं पड़ता। समय बीतता गया और रमेश बड़ा होता गया। जब वह हाई स्कूल की परीक्षा में बैठा तो उसे प्रश्नों के उत्तर की जगह आसमान के तारे नजर आने लगे। किसी तरह उसने परीक्षा दी लेकिन परिणाम तो उसे पहले से ही पता था। आखिर वही हुआ जो नहीं होना था। रमेश हाई स्कूल में ही फेल हो गया.

उसके मम्मी पापा ने अपने पास बुलाकर उसे प्यार से समझाया लेकिन रमेश के समझ में कुछ नहीं आ रहा था। इस बार भी वह हाई स्कूल की परीक्षा में फेल हो गया। उसके दोस्त उससे काफी आगे निकल गए थे। एक दिन, रात में उसने सोचा कि अगर मैं इसी तरह अपनी आदतों को बनाए रखूंगा तो भविष्य में मेरा क्या होगा। उसने इरादे मजबूत किए और जुट गया मेहनत करने में। इस बार जब उसने परीक्षा दी तो वह हाई स्कूल में स्कूल में टॉप कर गया। चारों तरफ से उसके लिए बधाइयां आ रहीं थीं। लोग उसके घर आ रहे थे बधाइयां दे रहे थे। उसके मम्मी पापा मोहल्ले में मिठाइयां बांट रहे थे। उसे उस दिन इतनी खुशी मिली जिसका बयान करना भी मुश्किल था।

रमेश जब स्नातक कर रहा था। उस समय उसके मम्मी और पापा की एक दुर्घटना में मौत हो गई। वह अकेला हो गया। वह नहीं समझ पा रहा था कि अब आगे क्या करेगा। वह पूरी तरह से भटक गया और इसका परिणाम आया कि वह स्नातक की परीक्षा में फेल हो गया। लेकिन उसे अपनी मम्मी बात पापा की बातों की याद आई कि अगर इरादे बुलंद हो तो दुनिया की कोई भी ताकत रोक नहीं पाती है। फिर उसने कड़ी मेहनत करनी शुरू कर दी और स्नातक की परीक्षा अच्छे अंको से पास हो गया।

उसके सामने पढ़ाई करने में बहुत बड़ी समस्या आ रही थी। उसके मम्मी पापा नहीं थे इसलिए पैसों का प्रबंध करना उसके लिए बहुत ही मुश्किल था। लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी किसी तरह रमेश ने परास्नातक की भी परीक्षा पास कर ली। अब उसे जिंदगी में कुछ करने का समय था। वह अपने मम्मी पापा की बातों को याद करता कि अगर इरादे बुलंद हो तो दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती। यही सोच कर उसने फिर आगे कदम बढ़ाया। तैयारियों में जुट गया और उसकी एक क्लर्क के पद पर नौकरी लग गई। रमेश इससे पूरी तरह संतुष्ट नहीं था। उसे अपने मम्मी पापा की बातें कचोट रही थी कि अगर कोई रोक नहीं सकता तो मैं कुछ भी कर सकता हूं।

आखिर उसने सिविल सर्विसेज में आवेदन किया। तीन बार रमेश असफल हुआ लेकिन उसके ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ा उसे पता था कि जिसके इरादे बुलंद होते हैं उसे दुनिया की कोई ताकत रोक नहीं पाती। इसलिए वह मेहनत करता ही रहा और चौथी बार उसकी मेहनत रंग लाई। सिविल सर्विसेज की परीक्षा में उसकी चौथी रैंक आई।

वह एक अधिकारी बन गया था लेकिन इसके बाद भी उसकी इच्छाएं अभी खत्म नहीं हुई थी। वह रुकने का नाम नहीं ले रहा था क्योंकि वह जानता था कि जिनके इरादों में दम है उन्हें कोई नहीं रोक सकता। इसलिए उसने और भी कड़ी मेहनत करनी शुरू कर दी। वह अपने काम में बहुत ही इमानदारी से लगा रहता। गरीबों की मदद करता। हर समय अपने मम्मी पापा की बातों को सोचता। आखिरकार एक दिन ऐसा भी आया कि उसे एक बहुत बड़ी कंपनी से ऑफर आया। जिसका उसे CEO बनाया गया।

इसके बाद तो रमेश ने पीछे मुड़कर नहीं देखा वह जिस पर भी हाथ रख देता उसे पा लेता क्योंकि उसके इरादे इतने मजबूत हो चुके थे। उसके अन्दर इतना साहस पैदा हो चुका था कि उसे बड़ा से बड़ा काम छोटा दिखाई देता था। वह हर क्षेत्र में सफल ही होता गया। रमेश सिर्फ अपने मां बाप की एक बात को अपने दिमाग में रखकर आज इतना बड़ा आदमी बन चुका था कि उसके गांव के लोग उसे देख कर विश्वास ही नहीं कर पा रहे थे। इसके बाद रमेश ने जो भी चाहा वह पाया क्योंकि उसके इरादे बुलंद थे। रमेश के दो बच्चे थे और दोनों ही उसी की तरह नटखट थे। उन्हें जब वह देखता तो धीरे से मुस्कुरा देता। वह समझ चूका था कि हमारा आने वाला कल भी हमारा ही होने वाला है।

जिस भी व्यक्ति के इरादे बुलंद होते हैं। उसे दुनिया की कोई ताकत वास्तव में रोक नहीं पाती है। एक कहावत है कि अगर मान लिया तो हार होगी और ठान लिया तो जीत होगी।

दीपक मेहता, राजस्थान 

यदि आपके पास हिंदी में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी ईमेल आई डी है: [email protected]. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित करेंगे. धन्यवाद!


Spread the love

84 thoughts on “हार की जीत -A motivational story”

  1. Greetings from Florida! I’m bored at work so I decided to check out your website on my iphone during lunch break.
    I love the info you provide here and can’t wait to take a look when I get home.
    I’m shocked at how fast your blog loaded on my phone ..
    I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyhow, awesome site!

  2. Global Gerçek İnstagram Takipçi Satın Al
    Hem gerçek hem de kalıcı sosyal medya takipçisine ulaşmak oldukça zordur.

    Bu sayı 10 bin olduğunda çok daha zordur.
    Takip2018 uzman ekip üyeleri tarafından sağlanan gerçek
    ve kalıcı takipçiler ile sosyal medya hesabınız kısa sürede Keşfet sayfasında yerini alabilir.

    Siz de İnstagram takipçi satın al kategorisinde yer alan 10 bin yurt içi ve
    yurt dışı takipçinin yer aldığı paketimizi
    tercih edebilirsiniz.
    o halde takip2018 ile hiç düşünmeden sende instagram takipçi satın al

  3. Hello there! This is my first visit to your blog! We are a team of volunteers and starting a new project
    in a community in the same niche. Your blog provided us valuable
    information to work on. You have done a marvellous job!

  4. It’s a pity you don’t have a donate button! I’d certainly
    donate to this brilliant blog! I guess for now i’ll
    settle for book-marking and adding your RSS feed to my Google
    account. I look forward to new updates and will talk about this blog with my Facebook group.
    Talk soon!

  5. I know this if off topic but I’m looking into starting my own weblog and was curious what all is required to get setup?
    I’m assuming having a blog like yours would cost a pretty penny?
    I’m not very web smart so I’m not 100% positive.
    Any tips or advice would be greatly appreciated. Thanks

  6. Excellent goods from you, man. I have keep in mind your stuff
    prior to and you’re simply extremely fantastic.
    I really like what you’ve obtained right here, really
    like what you’re stating and the way through which you assert it.

    You are making it entertaining and you continue to care for to stay it wise.
    I can’t wait to learn far more from you. That is really a tremendous website.

  7. You are so awesome! I do not think I have read through anything
    like that before. So nice to discover another person with a few original
    thoughts on this topic. Really.. thank you for starting this up.
    This site is one thing that is needed on the web, someone with a little
    originality!

  8. I wanted to thank you for this good read!! I absolutely
    loved every bit of it. I have you book marked to check out new stuff you post…

  9. I believe this is one of the most significant information for me.
    And i am glad studying your article. However want to observation on some general things, The site style is great, the articles
    is actually great : D. Excellent task, cheers

  10. Hey there! I understand this is somewhat off-topic but I needed to
    ask. Does building a well-established website such as yours require
    a massive amount work? I’m completely new to running a blog but I do write in my journal every day.

    I’d like to start a blog so I will be able to share my experience and thoughts
    online. Please let me know if you have any kind of recommendations or tips for new aspiring blog owners.

    Appreciate it! quest bars http://bitly.com/3C2tkMR quest
    bars

Leave a Comment