Truth Manthan

मेरी प्यारी मेरी दुलारी नन्ही सी कली

Spread the love

मेरी प्यारी मेरी दुलारी नन्ही सी कली
रोज देर तक मुझे जगाती नन्ही सी कली


हंसती है तो खनखन जैसी आवाजें आती हैं
पढ़ती है तो ऐसा लगता मां सरस्वती आती हैं
करके शैतानी वह मुझको रोज हंसाती है
लोटपोट हो जाता जब वह कुछ बन के आती है

नन्हा बैग लाद पीठ पर जाती वह स्कूल
ना अच्छा लगता घर में हम हो जाते हैं कूल
आती जब स्कूल से लौट के उजियारा फैलाती
हम लोगों के सांसो में तब सांस लौट के आती
मां उसकी पगला के उसको चूम चाटने लगती
चारों ओर हवा प्यार की देखो बहने लगती


आते ही मुझको डैडी कहकर वह मुझे बुलाती है
लंबी एक छलांग लगाकर गोदी में चढ़ जाती है
चुम्मी की वो झड़ी लगाकर मुझको खूब हंसाती है
यह सब उसका देख पड़ोसन अपने घर को जाती है
अपने बच्चे को गुढ़िया की सारी कथा बताती है


एक रात जब मैं सोया था उसने खींची नाक
अगली सुबह जागते ही वह लगी रगड़ने चाक
हंस-हंसकर मैं पागल हो गया देखी जब शैतानी
पकड़ा उसको लगा डांटने आ गई उसकी नानी
झट गोदी में लेकर उसको लगी पिलाने पानी


मैं मन में तब लगा सोचने यह तो सब में ढली है
मेरी प्यारी मेरी दुलारी नन्ही सी कली है

लेखक- राज कुमार गौतम, उत्तर प्रदेश


Spread the love

7 thoughts on “मेरी प्यारी मेरी दुलारी नन्ही सी कली”

Leave a Comment