Truth Manthan

एडोल्फ हिटलर और उसके 14 अनमोल विचार (Adolf Hitler and his 14 Precious Thoughts)

Spread the love

आज 1 सितंबर का दिन वैसे तो कई लोगों के जन्मदिन और कई घटनाओं के लिए जाना जाता है लेकिन आज मैं उस घटना के बारे में बताऊंगा जो बहुत ही क्रूरता के साथ अंजाम दी गई थी।

एडोल्फ हिटलर को दुनिया का ऐसा कोई इंसान नही होगा जो उसे ना जानता हो। हिटलर का जन्म ऑस्ट्रिया में उस समय हुआ था जब ऑस्ट्रिया हंगरी का हिस्सा थी। और उस समय हंगरी पर लिन्ज शासन करता था। सन 1913 में हिटलर जर्मनी चला गया और प्रथम विश्व युद्ध के दौरान वह जर्मन की सेना में शामिल हो गया।

जर्मन की सेना में शामिल होने के बाद उसकी निपुणता और वीरता की काफी चर्चा हुई। इसके बाद हिटलर 1919 में जर्मन वर्कर्स पार्टी में शामिल हो गया। इसके बाद 1921 में उसे एनएसडीएसपी का नेता नियुक्त कर दिया गया गया। नेता नियुक्त होते ही हिटलर ने 1923 में म्यूनिख में तख्तापलट करने की कोशिश की लेकिन वह इस काम में असफल रहा जिसके चलते उसे जेल में डाल दिया गया।

जेल में हिटलर ने अपनी आत्मकथा लिखी। इसके बाद सन 1924 में हिटलर को रिहा कर दिया गया। अपने तेज दिमाग के चलते हिटलर ने वर्साय की संधि पर हमला करके और जर्मन बाद को बढ़ावा देने के लिए लोकप्रिय समर्थन हासिल किया। इससे लोगों के बीच हिटलर की जबरदस्त लोकप्रियता बढ़ गई। जिसका उसने फायदा उठाया।

कई घटनाओं से जूझते हुए आखिरकार हिटलर जर्मन का चांसलर बन गया। इसके बाद हिटलर ने पूर्वी यूरोप में जर्मन लोगों के लिए रहने की जगह मांगी और उसकी आक्रमक विदेश नीति को यूरोप में द्वितीय विश्व युद्ध का प्राथमिक कारण माना जाता है।

1 सितंबर 1939 को हिटलर ने पोलैंड पर आक्रमण किया। जिसके परिणाम स्वरूप ब्रिटेन और फ्रांस ने जर्मनी पर युद्ध की घोषणा की। जून 1941 में हिटलर ने सोवियत संघ पर आक्रमण करने का आदेश दिया 1941 के अंत तक जर्मन सेना और यूरोपीय दूरी शक्तियों ने अधिकांश यूरोप और उत्तरी अफ्रीका पर कब्जा कर लिया। 1941 के बाद इन लाभों को धीरे-धीरे उलट दिया गया और 1945 में मित्र देशों की सेनाओं ने जर्मन सेना को हरा दिया।

हिटलर के नेतृत्व और नस्लीय रूप से प्रेरित विचारधारा के चलते नाजी शासन लगभग 6 मिलियन यहूदियों और लाखों अन्य पीड़ितों के नरसंहार के लिए जिम्मेदार था। जिन्हें उन्होंने उनके अनुयायियों ने उपमान यह सामाजिक अवांछनीय माना। 19.3 मिलियन नागरिकों और युद्ध के कैदियों की हत्या के लिए हिटलर और नाजी शासन भी जिम्मेदार था।

इतना ही नहीं यूरोपीय थिएटर में सैन्य कार्रवाई के परिणाम स्वरूप 28.97 मिलियन सैनिक और नागरिक भी मारे गए। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान मारे गए नागरिकों की संख्या युद्ध में अभूतपूर्व थी और हताहतों की संख्या इतिहास में सबसे घातक मानी जाती है। हिटलर के कार्यों और नाजी विचारधारा को लगभग सार्वभौमिक रूप से गंभीर रूप से अनैतिक माना जाता है। इयान केरशां के अनुसार- इतिहास में कभी भी ऐसा विनाश नहीं हुआ है। शारीरिक और नैतिक एक आदमी के नाम के साथ जुड़ा हुआ है।

1 सितंबर 1939 को जर्मनी ने फ्रिज सिटी ऑफ डैनजिन पर्दा भू से इनकार करने और पोलिश कॉरिडोर के पार आलौकिक सड़कों के अधिकार के बहाने पश्चिमी पोलैंड पर हमला कर दिया जिसे जर्मनी ने वर्साय संधि के तहत उद्धृत किया था जवाब में ब्रिटेन और फ्रांस ने 3 सितंबर को जर्मनी पर युद्ध की घोषणा करके हिटलर को आश्चर्यचकित कर दिया इससे हिटलर ने गुस्से में रिबेंटोप से पूछने के लिए प्रेरित किया अब क्या फ्रांस और ब्रिटेन ने तुरंत अपनी घोषणाओं पर कार्य नहीं किया और 17 सितंबर को सोवियत नेताओं ने पूर्वी पोलैंड पर आक्रमण कर दिया 1 सितंबर 1939 को ही एडोल्फ हिटलर ने मानसिक रूप से बीमार और विकलांग लोगों के व्यवस्थित इच्छा मृत्यु को शुरू करने का आदेश दे दिया जिससे हजारों लोगों को मौत के मुंह में जाना पड़ा।

एडोल्फ हिटलर के अनमोल विचार 

ज़िन्दगी निर्बल लोगो को कभी माफ नहीं करती है, इसीलिए मजबूत बने।
Life never forgives the weak. That’s why you become strong.
एडोल्फ हिटलर

यदि आप एक बड़े झूठ को लगातार बोलेंगे तो इसे सच मान लिया जाएगा!
If you consistently speak a big lie, it will be taken to be the truth!
एडोल्फ हिटलर

अपनी तुलना दूसरों से कभी मत करो। यदि तुम ऐसा करते हो, तो तुम खुद अपना अपमान कर रहे हो।
Never compare yourself to others. If you do this, you are insulting yourself.
एडोल्फ हिटलर

हर कोई जीत को तो अपना सकता है। लेकिन केवल पराक्रमी व्यक्ति ही हार को झेल सकता है।
Everyone can adopt victory. But only a mighty person can bear defeat.
एडोल्फ हिटलर

अगर तुम सूर्य की तरह चमकना चाहते हो तो पहले तुम्हें सूर्य की तरह जलना होगा।
If you want to shine like the sun, first you have to burn like the sun.
एडोल्फ हिटलर

मैं केवल उस चीज के लिए लड़ सकता हूं जिसे मैं प्यार करता हूं, केवल उसी चीज से प्यार करता हूं जो मैं सम्मान करता हूं, और केवल उसी चीज का सम्मान करता हूं जिसे मैं कम से कम जानता हूं।
I can only fight for what I love, love only what I respect, and only respect what I know least.
एडोल्फ हिटलर

जो लोग जीना चाहते हैं, उन्हें लड़ने दें, और जो लोग अनंत संघर्ष की इस दुनिया में नहीं लड़ना चाहते हैं वे जीने के लायक नहीं हैं।
Those who want to live, let them fight, and those who do not want to fight in this world of eternal struggle are not fit to live.
एडोल्फ हिटलर

जब कूटनीति समाप्त होती है, तो युद्ध की शुरुआत होती है
When diplomacy ends, war begins
एडोल्फ हिटलर

जिस आदमी को इतिहास की कुछ भी समझ नहीं है, वह उस आदमी की तरह है जिसके कान या आंखें नहीं हैं
A man who has no understanding of history is like a man who has no ears or eyes.
एडोल्फ हिटलर

जिसके पास पर्याप्त युवा बल है उसका भविष्य उज्ज्वल हैं।
एडोल्फ हिटलर

विजेता से कभी नहीं पूछा जाएगा कि उसने क्या सच कहा।
Those who have enough young force have a bright future.
एडोल्फ हिटलर

शब्द, अनजान क्षेत्रों के बीच पुलों का निर्माण करते हैं।
Words form bridges between uncharted territories.
एडोल्फ हिटलर

किसी राष्ट्र को जीतने के लिए, पहले अपने नागरिकों को निर्वस्त्र करना।
To conquer a nation, first, disarm its citizens.
एडोल्फ हिटलर

Dr Uday Pratap Singh, Kannauj, Uttar Pradesh

Website- www.gsjunction.com

यदि आपके पास हिंदी में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी ईमेल आई डी है: [email protected]. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित करेंगे. धन्यवाद!


Spread the love

3 thoughts on “एडोल्फ हिटलर और उसके 14 अनमोल विचार (Adolf Hitler and his 14 Precious Thoughts)”

Leave a Comment