Truth Manthan

महामहिम राष्ट्रपति डॉ० के०आर० नारायणन के कुछ ऐसे काम जिन्होंने देश को हिला के रख दिया

Spread the love

डॉ० के०आर० नारायणन: रामनाथकोविंद दलित भी है और राष्ट्रपति भी, वही पद और वही अधिकार तो फिर डॉक्टर केआर नारायणन जैसे साहसिक निर्णय लेने से क्यों हिचकिचा रहे हैं। उत्तरप्रदेश व बिहार में जंगलराज चल रहा है, क्यों नहीं राज्यपाल से रिपोर्ट तलब कर रहे?

महामहिम राष्ट्रपति डॉ० के०आर० नारायणन

देश के पहले दलित राष्ट्रपति थे ।उनका सम्पूर्ण जीवन सघर्ष से भरा हुआ था। वे केरल के एक गांव में फूस की झोंपड़ी में 1920 में पैदा हुए ! उनके पिता आयुर्वेदिक ओषधिओं के ज्ञाता थे इसी से वे अपना परिवार चलाते थे ! गरीबी इतनी भयंकर कि 15 km. दूर सरकारी स्कूल में पैदल पढ़ने जाते थे ! कभी कभी फीस न होने पर उन्हें कक्षा से बाहर खड़ा होना पड़ता था ! उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में पढ़ाई की ज़ब वह भारत लोटे तो उनके प्रोफेसर ने एक पत्र भारत के प्रधान मंत्री जवाहर लाल के नाम उन्हें दिया उस पत्र में उनकी प्रतिभा का उल्लेख था चूंकि उन्होंने तीन वर्ष का कोर्स 2साल में विशेष योग्यता के साथ पास किया था !

ज़ब वह पत्र उन्होंने नेहरू जी को दिया तो नेहरू जी ने उन्हें राजदूत नियुक्त कर दिया !सेवा निवृत होने पर उन्हें JNU का कुलपति बनाया ! एक बार वे उप राष्ट्र पति रहे ! उसके बाद वे भारत के दसवें पहले दलित राष्ट्रपति बने ।

1.उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को बिना हस्ताक्षर किये फाइल यह कहते हुए वापस कर दी कि 10 न्यायाधीशों के इस पेनल में एक भी S.C. या S.T. का जज क्यों नहीं है। उनके तेवर देखकर सरकार में हड़कंम मच गया तब जा कर मुख्य न्यायाधीश के. जी. बाल कृष्णन को बनाया गया। जो अनुसूचित जाति के पहले भारत के मुख्य न्यायाधीश बने। इस व्यवस्था को sc. St. Obc के लोग भूल नहीं सकते। ये भी केरल के ही थे।

2 . दूसरा कड़ा कदम ज़ब उठाया तब वाजपेयी सरकार ने सावरकर को भारत रत्न देने के प्रस्ताव को वापस कर दिया।

3.तीसरा कड़ा कदम ज़ब उठाया तब वाजपेयी सरकार ने up. में राष्ट्रपति शासन लगाने का प्रस्ताव ख़ारिज कर दिया।

ऐसे महामहिम की आज जरूरत है। ऐसे महान पुरुषों को उत्तर भारत के SC, ST और OBC के लोग जानते तक नहीं .

लोगों द्वारा समाज में यह भ्रम फैलाया गया है कि दलित लोग शिक्षा के लायक नहीं थे। जबकि संविधान सभा में 14 महिलाएं ग्रजुऐट थी एक SC की महिला ग्रेजुएट थी।हजारों लोग ब्रिटिश शासन में उच्च शिक्षित थे। दूसरे महामहिम राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधा कृष्णन जिनके नाम से शिक्षक दिवस मनाया जाता है। वे तथा डॉ के आर नारायणन सभी अंग्रेओ के इंग्लिश माध्यम में पढ़े, थे।

डॉ० के०आर० नारायणन

महामहिम राष्ट्रपति डॉ०के आर नारायणन जी ने सन 1948 में अंग्रेजी साहित्य में प्रथम श्रेणी से एमए पास किया। एमए पास करने के बाद उन्होंने’ महाराजा कालेज में अंग्रेजी प्रवक्ता पद के लिये आवेदन किया। लेकिन त्रावणकोर के दीवान सीपी रामास्वामी अय्यर ने नारायणन जी को प्रवक्ता पद पर काम करने से रोक दिया और कहा कि आपको सिर्फ़ क्लर्क पद पर ही कार्य करना होगा।

अय्यर के मन मे जातीय भेदभाव इस क़दर भरा हुआ था कि वह कामगार किसान आदिवासी-कबाइली जमात के किसी भी युवक-युवतियों को प्रवक्ता पद पर आसीन होते सहन नही कर सकता था।

स्वाभिमानी डॉ. के आर नारायणन जी ने क्लर्क की नौकरी पर काम करने से साफ-साफ इंकार कर दिया और इसके ठीक बाद में विवि के दीक्षांत समारोह में बीए की डिग्री लेने से भी मना कर दिया।

इस घटना के 4 दशक बाद सन 1992 में उपराष्ट्रपति बनने पर उनके गृह राज्य केरल विवि के उसी सीनेट में उनका जोरदार स्वागत हुआ।

उस वक़्त की तत्कालीन जातिवादियों पर तंज कसते हुए नारायणन जी ने कहा “आज मुझे उन जातिवादियों के दर्शन नही हो रहे हैं’ जिन्होंने वंचित जमात का सदस्य होने के कारण इसी विवि में मुझे प्रवक्ता बनने से वंचित कर दिया था”।

1946 में श्री के आर नारायणन जी दिल्ली में डॉ० बी० आर० आम्बेडकर जी से मिलने आये थे। डॉ० अम्बेडकर जी उस समय के वायसराय की काउंसिल में श्रम विभाग के सदस्य थे। नारायणन जी की योग्यता को देखते हुए डॉ० अम्बेडकर जी ने उन्हें दिल्ली में ही भारत ओवरसीज विभाग (जिसे अब “विदेश विभाग “कहा जाता है) में’ 250 रुपये प्रतिमाह पर सरकारी नौकरी दिलवा दी।

राजनियिक के तौर पर नारायणन जी टोकियो, लंदन, ऑस्ट्रलिया, हनोई में स्थिति भारतीय उच्चायोग में प्रतिष्टित पदों पर रहे और चीन के राजदूत भी नियुक्त हुए। वहाँ से रिटायर होने के बाद सन 1979 से 1980 तक जेएनयू के कुलपति रहे। सन1980 से 1984 तक अमेरिका के राजदूत भी रहे।

श्री के आर नारायणन जी 14 जुलाई 1997 को भारत के दसवें राष्ट्रपति चुने गए। श्री के आर नारायणन जी ही वह व्यक्ति थे जिन्होंने वंचित वर्ग के लोगों के लिये’ उच्चतम न्यायालय में न्यायाधीश बनने का रास्ता खोला था।

उच्चतम न्यायालय के तत्कलीन मुख्य न्यायाधीश ए एस आनंद ने उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों के लिये दस न्यायविद उच्च न्यायालयों के कानून विशेषज्ञों का एक पैनल बनाकर मंजूरी के लिये राष्ट्रपति को भेजा था।

श्री के आर नारायणन जी ने उस फाइल को स्वीकृति करने की बजाय तल्ख टिपण्णी लिखी-“क्या इन दस व्यक्तियों के पैनल में रखने के लिये उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों में’ भारत में अनुसूचित वर्ग के अनुसूचित जाति एवं जनजाति का एक भी व्यक्ति योग्य न्यायाधीश नही है?”

देश के राष्ट्रपति की इस टिप्पणी से सरकार से लेकर न्यायालय में हड़कंप सा मच गया। न्यायिक पदों के लिए देश में वंचितों और आदिवासियों के प्रतिनिधित्त्व पर बहस शुरू हो गई।

एक समय ऐसा भी आया जब राष्ट्रपति श्री के आर नारायणन जी किसी दौरे पर थे और श्री के आर नारायणन जी को जिस होटल में ठहराया जाना था, उसी दौरान दक्षिण पंथी मनुवाद व मुनिमवाद के पक्षधर लोगों ने होटल के कर्मचारियों से मिलकर श्री के आर नारायणन जी को भोजन में जहर देकर मारने की कोशिश की थी। परन्तु होटल के रसोइयों ने ऐसा करने से मना कर दिया था।

एक राष्ट्रपति की इस बेबाक टिप्पणी ने वंचित जमात के लोगों के लिये सर्वोच्च न्यायालय में प्रवेश का रास्ता खोला गया था। सत्तारूढ़ मनुवाद व मुनिमवाद के अनुसार नही चलने के कारण ही श्री के आर नारायणन जी ने दोबारा राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने से मना कर दिया था। श्री के आर नारायणन जी वह पहले देश के राष्ट्रपति थे जो अनुसूचित वर्ग से थे। जबकि राष्ट्रपति का चुनाव लडते समय उन्हें सामान्य श्रेणी में चुनाव लड़ा था।

वर्तमान वाले महामहिम राष्ट्रपति आप भी इनसे कुछ सीख लीजिये। समाज इसका हिसाब आपसे जरूर पुछेगा।

लेखक

सामाजिक कार्यकर्ता और कार्यकारी अध्यक्ष जकरसिया चिनाब घाटी पूर्व एआईएसएफ सदस्य।

यदि आपके पास हिंदी में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी ईमेल आई डी है: [email protected] पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित करेंगे. धन्यवाद!


Spread the love

112 thoughts on “महामहिम राष्ट्रपति डॉ० के०आर० नारायणन के कुछ ऐसे काम जिन्होंने देश को हिला के रख दिया”

  1. Hey there, I think your site might be having browser compatibility issues.
    When I look at your blog in Opera, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping.
    I just wanted to give you a quick heads up!
    Other then that, awesome blog!

  2. Hey would you mind letting me know which hosting company you’re using?
    I’ve loaded your blog in 3 different internet browsers and I must say this blog loads a lot
    faster then most. Can you suggest a good web hosting provider at
    a honest price? Many thanks, I appreciate it!

  3. Wow! This could be one particular of the most helpful blogs We have ever arrive across on this subject. Basically Excellent. I’m also an expert in this topic therefore I can understand your effort.

  4. Thanks for ones marvelous posting! I quite enjoyed reading it, you’re a great author.
    I will make sure to bookmark your blog and definitely will come back in the future.

    I want to encourage one to continue your great work,
    have a nice morning!

  5. Hello, Neat post. There’s a problem along with your web site in internet explorer, may test thisK IE still is the marketplace chief and a large component to folks will leave out your magnificent writing due to this problem.

  6. Magnificent goods from you, man. I’ve understand your stuff
    previous to and you are just too magnificent. I really like what you’ve acquired here, certainly like what
    you’re saying and the way in which you say it. You make it entertaining and you still care for to keep it smart.
    I cant wait to read far more from you. This is really a tremendous web
    site.

  7. Thank you for another informative web site. Where else could I get that type of information written in such a perfect way? I have a project that I am just now working on, and I have been on the look out for such info.

  8. Spot on with this write-up, I honestly think this
    site needs a lot more attention. I’ll probably be back again to read through more, thanks
    for the info!

Leave a Comment