Truth Manthan

कंधे
Spread the love

कंधे: तस्वीर भारत विभाजन के समय की है। इतिहास के किसी दस्तावेज में यह दर्ज नहीं कि पुरुष के कंधे पर बैठी यह स्त्री उसकी पत्नी है, बहन है, बेटी है, या कौन है। बस इतना स्पष्ट है कि एक पुरुष और एक स्त्री मृत्यु के भय से भाग रहे हैं। भाग रहे हैं अपना घर छोड़ कर, अपनी मातृभूमि छोड़ कर, अपनी संस्कृति अपनी जड़ों को छोड़ कर…

तस्वीर यह भी नहीं बता पा रही कि दोनों भारत से पाकिस्तान की ओर भाग रहे हैं या पाकिस्तान से भारत की ओर भाग रहे हैं। मैं कपड़ो और दाढ़ी से अंदाजा लगाता हूँ तो लगता है कि सिक्ख हैं, और यदि सिक्ख हैं तो पाकिस्तान से भारत की ओर ही भाग रहे हैं। तस्वीर बस इतना बता रही है कि दोनों भाग रहे हैं, मृत्यु से जीवन की ओर… अंधकार से प्रकाश की ओर… “तमसो माँ ज्योतिर्गमय” का साक्षात रूप…

अद्भुत है यह तस्वीर। जब देखता हूँ तब रौंगटे खड़े हो जाते हैं। क्या नहीं है इस तस्वीर में? दुख, भय, करुणा, त्याग, मोह, और शौर्य भी… मनुष्य के हृदय में उपजने वाले सारे भाव हैं इस अकेली तस्वीर में।
पर मैं कहूँ कि यह तस्वीर पुरुषार्थ की सबसे सुंदर तस्वीर है तो तनिक भी अतिश्योक्ति नहीं होगी। एक पुरुष के कंधे का इससे बड़ा सम्मान और कुछ नहीं हो सकता, कि विपत्ति के क्षणों में वह एक स्त्री का अवलम्ब बने।

आप कह नहीं सकते कि अपना घर छोड़ कर भागता यह बुजुर्ग कितने दिनों का भूखा होगा। सम्भव है भूखा न भी हो, और सम्भव है कि दो दिन से कुछ न खा पाया हो। पर यह आत्मविश्वास कि “मैं इस स्त्री को अपने कंधे पर बिठा कर इस नर्क से स्वर्ग तक कि यात्रा कर सकता हूँ” ही पुरुषार्थ कहलाता है शायद। पुरुष का घमंड यदि इस रूप में उभरे कि “मैं एक स्त्री से अधिक कष्ट सह सकता हूँ, या मेरे होते हुए एक स्त्री को कष्ट नहीं होना चाहिए” तो वह घमंड सृष्टि का सबसे सुंदर घमंड है। हाँ जी! घमंड सदैव नकारात्मक ही नहीं होता।

कंधे
मुझे लगता है कि स्त्री जब अपने सबसे सुंदर रूप में होती है तो ‘माँ’ होती है, और पुरुष जब अपनी पूरी गरिमा के साथ खड़ा होता है तो ‘पिता’ होता है।

कंधे पर एक स्त्री को बैठा कर जाता पुरुष 

अपने कंधे पर एक स्त्री को बैठा कर चलते इस पुरुष का उस स्त्री के साथ चाहे जो सम्बन्ध हो, पर उस समय उस स्त्री को इसमें अपना पिता ही दिखा होगा। नहीं तो वह उसके कंधे पर चढ़ नहीं पाती।

कंधे पर तो पिता ही बैठाता है, और बदले में एक बार पुत्र के कंधे पर चढ़ना चाहता है। और वह भी मात्र इसलिए, कि पुत्र असंख्य बार कंधे पर चढ़ने के ऋण से मुक्त हो सके।

ऋणी को स्वयं बहाना ढूंढ कर मुक्त करने वाले का नाम पिता है, और मुक्त होने का भाव पुत्र… यह शायद मानवीय सम्बन्धो का सबसे सुन्दर सत्य है।

इतिहास को यह भी स्मरण नहीं कि मृत्यु के भय से भागता यह जोड़ा जीवन के द्वार तक पहुँच सका या राह में ही कुछ नरभक्षी इन्हें लील गए, पर वर्तमान को यह ज्ञात है कि सवा अरब की जनसँख्या वाले इस देश मे यदि ऐसे हजार कंधे भी हों तो वे देश को मृत्यु से जीवन की ओर ढो ले जाएंगे।

ईश्वर! मेरे देश को वैसी परिस्थिति मत देना, पर वैसे कंधे अवश्य देना ताकि देश जी सके, और जी सके पुरुषों की प्रतिष्ठा।
ताकि नारीवाद के समक्ष जब मेरा पुरुषवाद खड़ा हो तो पूरे गर्व के साथ मुस्कुराए और कहे ‘अहम ब्रह्मास्मि….’

सर्वेश कुमार तिवारी 

यदि आपके पास हिंदी में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी ईमेल आई डी है: [email protected] पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित करेंगे. धन्यवाद!


Spread the love

16 thoughts on “कंधे: पुरुषार्थ में खुद को भूले इंसान के कंधे, पढ़ें भावुक कर देने वाला सच”

  1. Just wish to say your article is as astounding. The clarity for your publish is simply excellent and that i could
    assume you are a professional on this subject. Fine together
    with your permission allow me to grasp your feed to keep updated with forthcoming post.
    Thanks 1,000,000 and please continue the gratifying
    work.

  2. Pingback: generic viagra over the counter

  3. Pingback: hydroxychloroquine canada for sale

  4. Правила русской орфографии и пунктуации Утверждены в 1956 году Академией наук СССР, Министерством высшего образования СССР и Министерством просвещения РСФСР: И раз у Игорь Александрович и хоть и был похотлив и щедр соразмерно своей похоти, но «складываять все же яйца в одну корзину» – нет, это было не про Ольгу. удалить видео / video removal Смотрите как Минетик на природе от жены брюнетки на ProstoPorno Да-да, пока. Поищи тему про филармонию, там тебе интереснее будет, чем здесь. Тут Ду рочки минетику учатся, но у них не получается ( Две пышнозадые рыжие потаскушки балуют толстый ствол чувака парным, горячим минетиком, а взамен получают потрясное куни от него Для многих слов существуют различные варианты переносов, однако именно указанный вероятней всего вам засчитают правильным в школе. Минетик Минетик ночью на природе Глазастая блондинка обожает делать минет. Она в этом деле – мастерица. Красивая соска обрабатывает член своего дружка умелым ротиком, после чего помогает ещё и руками. Шалунья от этого дела заводится в полной мере, так что быстро доводит партнера до оргазма. https://dohabb.com/index.php?page=user&action=pub_profile&id=272524   Травмированная спортсмена порадовала тренера по кикбоксингу фут фетишем ?? Все ролики доступны 365 дней в году, и обновление порнухи в заданном разделе бывает ежедневно. ? Если вам понравились ХХХ видео рубрики «Фут фетиш секс», то вы можете оставить к ним свой комментарий или поделиться им в контакте и других социальных сетях. Выпив спиртное, пьяная юная красотка дала в жопу симпотичному парню в прямом эфире чата 18+! Пикантное futfetish порно подойдет тем, кто любит натуральность и реальность. Здесь самые обычные люди занимаются обыкновенным сексом у себя дома. Смазливые жены с мужьями, любовники с любовницами, парни с девушками. © 2021 – hdclubx.com, популярное порно видео в HD Стройная, модельной внешности, активная, позитивная. Одноразовые простыни, тапочки, губки. Массаж проходит при свечах с красивой музыкой это позволит Вам в полной мере насладиться искусством массажа, почувствовать новые прикосновения, яркие эмоции.

  5. Pingback: stromectol 12mg for sale online

  6. It’s actually a great and useful piece of info. I’m satisfied that you simply shared this helpful information with us.
    Please stay us up to date like this. Thanks for sharing.

  7. Pingback: buy generic tadalafil online uk

  8. Pingback: can i get viagra over the counter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top